महासचिव

अरबों लोग अब भी टॉयलेट से वंचित

दुनिया भर में क़रीब दो अरब 30 करोड़ लोगों को बुनियादी स्‍वच्‍छता सुविधाएं सुलभ नहीं हैं, भारत में एक अरब लोग खुले में शौच करते हैं.

टूट रहा है भरोसा, कैसे बचाएँ…

राष्ट्रीय संस्थानों में लोगों का भरोसा, देशों के बीच भरोसा और नियम-क़ानून पर आधारित एक वैश्विक व्यवस्था में भरोसा, सभी टूटा नज़र आता है.

Loading